• पिछला अद्यतनीकृतः: 22 फरवरी 2019
  • मुख्य सामग्री पर जाएं | स्क्रीन रीडर का उपयोग | A A+ A++ | |
  • A
  • A

भांडागारण विकास और विनियमक प्राधिकरण

भांडागारण विकास और विनियमक प्राधिकरण (डब्ल्यूडीआरए) की स्थापना भारत सरकार द्वारा दिनांक 26.10.2010 को भांडागारण (विकास एवं विनियमन) अधिनियम, 2007 के प्रावधानों के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए की गई थी। डब्ल्यूडीआरए का प्रमुख उद्देश्य देश में निगोशिएबल वेअरहाउस रसीद (एनडब्ल्यूआर) प्रणाली कार्यान्वित करना है जिससे किसानों को अपने उत्पाद अपने खेतों के निकट स्‍थित वैज्ञानिक भंडारण गोदामों में रखने और अपने एनडब्ल्यूआर के एवज में बैंकों से ऋण प्राप्त करने में सहायता मिलेगी। इस प्राधिकरण का प्रमुख कार्य भांडागारों के विकास और विनियमन के लिए प्रावधान बनाना है जिनमें अन्य बातों के साथ-साथ भांडागार रसीद की निगोशिएबिलिटी, भांडागारों का पंजीकरण, माल की वैज्ञानिक वेअरहाउसिंग को प्रोत्साहन देना, जमाकर्ताओं और बैंकों के आपसी विश्‍वास को बढ़ाना, ग्रामीण क्षेत्रों में नकदी की स्‍थिति में सुधार करना और प्रभावकारी आपूर्ति श्रृंखला को प्रोत्साहन देना शामिल है।

2. दिनांक 31.12.2018 की स्थिति के अनुसार डब्ल्यूडीआरए में पंजीकृत भांडागारों, जारी किए गए एनडब्ल्यूआर और एनडब्ल्यूआर के एवज में दिए गए ऋण का का वर्ष-वार विवरण निम्नानुसार हैः-

क्र.सं.

वर्ष

पंजीकृत वेअरहाउस की संख्‍या

जारी किए गए एनडब्ल्यूआर की संख्‍या

एनडब्ल्यूआर के एवज में जमा किए गए वस्‍तुओं का कुल मूल्‍य

(करोड़ रुपए में)

एनडब्ल्यूआर के एवज में दिया गया कुल ऋण

(करोड़ रुपए में)

1.

2011-12

240

8056

1356.32

591.00

2.

2012-13

92

8242

416.26

105.65

3.

2013-14

68

6121

583.02

108.02

4.

2014-15

234

16993

1160.66

388.42

5.

2015-16

588

15178

845.05

203.47

6.

2016-17

214

19350

719.93

148.40

7.

2017-18

261

(ऑनलाइन-106)

12313

(ई-एनडब्ल्यूआर-114)

510.2

(ई-एनडब्ल्यूआर-8.643)

118.51

(ई-एनडब्ल्यूआर के एवज में-0.20 करोड़ रुपए)

8.

2018-19

351

(ऑनलाइन-345)

59571 (ई-एनडब्ल्यूआर-52210)

2361.039

(ई-एनडब्ल्यूआर-1940.869)

67.3778

(ई-एनडब्ल्यूआर के एवज में-5.1178)

कुल

2048

145824

7952.479

1730.8478

(*सक्रिय -875)

3. सरकार ने डब्ल्यूडीआर की गतिविधियों को कारगर बनाने और भांडागारों के पंजीकरण तथा निगरानी के लिए सूचना प्रौद्योगिकी आधारित प्लेटफार्म शुरु करने के लिए एक रुपानंतरण योजना की घोषणा की है। इस योजना के अंतर्गत डब्ल्यूडीआरए ने भांडागारों के ऑनलाइन पंजीकरण के लिए एक पोर्टल की स्थापना की है। इसने इलेक्‍ट्रॉनिक निगोशिएबल वेअरहाउस रसीद (ई-एनडब्ल्यूआर) के निर्माण एवं प्रबंधन के लिए मेसर्स नेशनल इलेक्‍ट्रॉनिक रिपॉजिटरी लिमिटेड (एनइआरएल) और सीडीएसएल कामोडिटी रिपॉजिटरी लिमिटेड (सीसीआरएल) नामक दो रिपॉजिटरियों की भी स्थापना की है। इन रिपॉजिटरियों तक सभी हितधारकों की पहुँच है जिनमें वेअरहाउस, रिपॉजिटरी-प्रतिभागी, वस्तु विनिमयकर्ता और बैंक भी शामिल हैं। दोनों रिपॉजिटरी और पोर्टल ने दिनांक 26.09.2017 से कार्य करना शुरु कर दिया है। रूपांतरित प्रणाली में डब्ल्यूडीआरए में वेअरहाउस पंजीकरण की प्रक्रिया और जमा किए गए माल के एवज में वित्तीय सहायता को अधिक सरल, सुरक्षित तथा पारदर्शी बनाया गया है।

अधिक जानकारी के लिए कृपया डब्ल्यूडीआरए वेबसाइट देखें।