• पिछला अद्यतनीकृतः: 03 नवम्बर 2020
  • मुख्य सामग्री पर जाएं | स्क्रीन रीडर का उपयोग | A A+ A++ | |
  • A
  • A

डब्ल्यू्डीआरए

भाण्डारगार विकास और विनियामक प्राधिकरण को सहायता

भारत सरकार ने भांडागार (विकास एवं विनियमन) अधिनियम, 2007 (2007 का 37) को अधिनियमित करके एक परक्राम्या भांडागार रसीद प्रणाली आरंभ की है जिसे 25 अक्तूाबर, 2010 से प्रभावी बनाया गया है। परक्राम्यन भांडागार रसीद (एनडब्यूक आर) प्रणाली औपचारिक रूप से 26 अप्रैल, 2011 से शुरू की गई।

भांडागार (विकास एवं विनियमन) अधिनियम, 2007 के मुख्यह उद्देश्यम भांडागारों के विकास और विनियमन हेतु भांडागार रसीदों की परक्राम्येता, भांडागार विकास और विनियामक प्राधिकरण (डब्यूेतु डीआरए) की स्‍थापना और अन्यि संबंधित मामलों के लिए व्य7वस्थाध करना है। इस अधिनियम के अंतर्गत पंजीकृत भांडागारों द्वारा जारी परक्राम्या भांडागार रसीदें (एनडब्यू् आर) एनडब्यू आर के प्रति बैंकों से ऋण लेने में किसानों की सहायता करेंगी और कृषि उत्पाकद की मजूबरन ब्रिक्री से बचा जा सकेगा। यह बैंकों, वित्तीिय संस्था ओं, बीमा कम्प्नियों, व्याएपार, वस्तुे बाजारों और उपभोक्ताचओं जैसे अन्यक बहुत से हितधारियों के लिए भी लाभकारी होगा।

डब्यूजीक डीआरए अभी प्रारंभिक अवस्थास में है और 12वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान सतत् रूप से इसे वित्ती य सहायता दी जानी है। चूंकि भांडागारों के पंजीकरण के लिए और प्रत्यातयन एजेंसियों के पंजीकरण के लिए नाममात्र के पंजीकरण शुल्क के अलावा इसका राजस्व का कोई स्रोत नहीं हैं।

योजना आयोग ने डब्यू है डीआरए की सहायता की स्‍कीम को स्वी कार कर लिया है तथा खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग की अन्य् स्कीडमों के साथ इसे 12वीं पंचवर्षीय योजना में शामिल कर लिया है। कार्यकलापों की समीक्षा तथा विस्तृ त रूप से जांच करने के बाद डब्यू कर डीआरए के संशोधित लागत अनुमान को 12वीं योजना अवधि (2012-17) के दौरान 84.70 करोड़ रूपये के रूप में अनुमोदित किया गया है।

कार्यकलाप

परक्राम्ये भांडागार रसीद की संकल्परना के बारे में किसानों और अन्यू हितधारियों की मनोवृत्ति में परिवर्तन लाने की दृष्टि से डब्यूरसीदडीआरए ने व्याबपक प्रचार कार्यक्रम आरंभ किये हैं जिनमें किसानों के लिए जागरूकता कार्यक्रमों, प्रशिक्षकों, भांडागार प्रबन्धंकों, प्रत्यानयन एजेंसियों के अधिकारियों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आदि का आयोजन करना शामिल है। इसने डब्यूर डीआर अधिनियम के लक्ष्यों्/उद्देश्योंं तथा किसानों तथा अन्य जमाकर्ताओं के प्राप्तड होने वाले एनडब्यूआर के लाभों के संबंध में एक वृत्त चित्र भी तैयार किया है। इसके अलावा डब्यूयम डीआरए द्वारा प्रचार पत्रिकाएं और बुलेटिन प्रकाशित किए जा रहे हैं।

भांड़ागारण के क्षेत्र में क्षमता का निर्माण करने और भांडागारों में काम करने वाले व्य क्तियों के आचरण में कार्य कुशलता को बढ़ाने हेतु केन्द्री य भंडारण निगम, एसडब्यू सी और निजी भांडागारों के प्रबंधकों के लिए देश के विभिन्न भागों में प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है।

भांडागारों के प्रत्याएयन की विस्तृ त प्रक्रिया के बारे में प्रत्या्यन एजेंसियों के अधिकारियों को अवगत कराने के लिए डब्यूप डीआरए ने नई दिल्लीप में तीन प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन किया है।

भांडागारण विकास और विनियामक प्राधिकरण (डब्यूं। डीआरए) ने 552 भांडागार पंजीकृत किए हैं। इनमें से 176 भांडागार केन्री य भांडागार निगम के हैं और 125 भांडागार राज्यो भांडागार निगमों के हैं, 77 भांडागार निजी क्षेत्र से और 174 भांडागार प्राथमिक सहकारी सोसायटियों से संबंधित हैं। तीन कोल्ड6 स्टोंर भी पंजीकृत किए हैं।

कोल्ड स्टोरों में एनडब्यूऔर आर प्रणाली लागू करने पर बागवानी उत्पाोदों को उगाने वाले / किसान भी कोल्डय स्टोणर द्वारा जारी एनडब्यूर आर के प्रति बैकों से रियायती ऋण का लाभ उठा सकते हैं। इससे बागवानी उत्पा‍दों को उगाने वाले / उत्पाूदकों के बीच नकदी बढ़ेगी और अच्छीद गुणवत्ता। वाले फलों और सब्जियों की पूर्ण वर्ष बाजार में निरन्त‍र आपूर्ति भी बनाएं रखेंगे। इसके अतिरिक्ते, बागवानी उत्पाूदों में क्षति जो लगभग 30 प्रतिशत होती है, भी बहुत कम हो जाएगी। इससे देश में बागवानी सहित कृषि के व्यावसायीकरण फसल लेने के बाद कारगर प्रबंधन और एकीकृत विकास में सहायता मिलेगी। आंध्र प्रदेश और गुजरात के राज्योंग से कोल्ड स्टांरों के प्रत्या यन और पंजीकरण के लिए आवेदन प्राप्तज हुए हैं।

भावी योजना

डब्ल्यूडीआरए की ई-गवर्नेन्सए पहल

डब्ल्यूडीआरए राष्ट्रीय लोक वित्त तथा नीति संस्थान (एनआईपीएफपी) के साथ परामर्श से डब्यूयाै डीआरए में परिवर्तन की योजना आरंभ कर रहा है जिसमें अन्यं उद्देश्यों के अलावा, परक्राम्य भांड़ागार रसीदों (एनडब्यून आर) के संबंध में सूचना प्रणाली के सृजन की परिकल्परना शामिल है। इसमें भांडागारों, भांडागार सेवा प्रदाताओं के संबंध में और एनडब्यूय आर जारी करने और व्याैपार के संबंध में सूचना को एकत्रित करने और बांटने के लिए आंकड़ा आधार की स्था्पना के लिए समर्थकारी ढांचा तैयार करने का प्रस्तानव है।

प्रत्याैयन एजेंसियों का पंजीकरण : डब्ल्यूडीआरए द्वारा इस समय 14 प्रत्यायन एजेंसियां सूचीबद्ध की गई हैं। प्रत्यांयन एजेंसियों को आगे सूची में शामिल करने संबंधी संभावना निम्नायनुसार है :

प्रत्यायन एजेंसियों की भावी संभावनाएं – 12वीं पंचवर्षीय योजना

2012-2013 2013-2014 2014-2015 2015-2016 2016-2017
14 16 20 25 30

पंजीकृत भांडागारों और अगले पांच वर्षों के लिए भावी संभावनाओं की स्थिति निम्नारनुसार है :

पंजीकृत भांडागारों के लिए भावी संभावनाएं

2012-2013 2013-2014 2014-2015 2015-2016 2016-2017
300 400 800 1200 1800

आप यह भी देख सकते हैं